Ayodhya DHam ( Jai Sita Ram), Pauranik Kahaniya

वायुयान द्वारा, ट्रेन द्वारा, सड़क के द्वारा कैसे पहुंचें बिजेथुआ हनुमान मंदिर सुल्तानपुर – Bijethua Mahaveer Dham

bijethua_dham_and_makari_kund

बिजेथुआ महावीरन मंदिर

 दिशा

यह सूरापुर-सुलतानपुर में एक बहुत प्रसिद्ध प्राचीन मंदिर है। मंगलवार और शनिवार को यहाँ पर बहुत से लोग पूजा अर्चना के लिए आते  हैं । रामायण में इस स्थान की अपनी कथा  है। इस जगह  भगवान हनुमान    जब लक्ष्मण के लिए संजीवनी लाने जा रहे थे तो उन्होंने दैत्य कालनेमि को मारा और  विश्राम  किया था । भगवान हनुमान ने मकर कुंड में स्नान भी किया जो बिजेथुआ मंदिर के किनारे पर स्थित  है। रावण ने भगवान राम के कार्य में बाधा डालने के लिए कालनेमि नाम के दैत्य को नियुक्त किया था | कुंड में स्नान करते समय  एक मकरी ने  हनुमान  जी से कहा की कालनेमि संत नहीं अपितु दैत्य है  ।  भक्त जन अपनी मनोकामना की सिद्धि के लिए यहाँ पर घंटियां चढाते है | बिजेथुआ महावीरन  जिला मुख्यालय से लगभग 50 किमी दूर कादीपुर तहसील में स्थित है और सड़क मार्ग बस और निजी टैक्सी द्वारा यहाँ पहुंचा जा सकता है।

कैसे पहुंचें:

वायुयान द्वारा

निकटतम घरेलू हवाई अड्डा इलाहाबाद हवाई अड्डा, उत्तर प्रदेश, सुलतानपुर से लगभग दो घंटे की ड्राइव है। यह एयर इंडिया के माध्यम से नई दिल्ली से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दूसरा निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डा, लखनऊ, सुलतानपुर से लगभग 148 किमी दूर है। विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्थलों के लिए अक्सर उड़ानें यहां से निकलती हैं।

ट्रेन द्वारा

इसका अपना रेलवे स्टेशन सुलतानपुर रेलवे जंक्शन नाम से है जो उत्तर प्रदेश के सभी प्रमुख शहरों और लखनऊ, कानपुर, दिल्ली, जयपुर और भोपाल जैसे अन्य राज्यों से जुड़ा हुआ है।

सड़क के द्वारा

सुलतानपुर पहुंचने के कई तरीके हैं। सुलतानपुर फैजाबाद से 60 किमी, इलाहाबाद से 103 किमी, लखनऊ से 135 किमी, वाराणसी से 162 किलोमीटर, कानपुर से 231 किमी, दिल्ली से 630 किलोमीटर, भोपाल से 662 किमी, जयपुर से 743 किमी उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (यूपीएसआरटीसी) और कुछ निजी यात्रा सेवाएं।

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि lordkart.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें. 

Credit: sultanpur.nic.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *